Verse

कुछ पल जो याद रह गयें,
उन्हें संवारने का जी करता है,
गुज़र चुका है जो वक़्त,
उसे अब जीने का जी करता है ।

 
– प्रिया सोनी

Advertisements

माँ

शाम हो चली है,
अब मुझे संभलना होगा,
कंकर जो मिले कहीं,
घुँघरू बना थिरकना होगा

खुद से ही जो मै हारने लगूं,
तो मेरी माँ का हौसला है साथ,
कठिन पथ से लौट के मै जा न सकूँ,
गर मेरी माँ का जज़्बा है साथ ।

आज यूँ परेशान हो माँ तुम,
कठिनाईओं से माना ग्रस्त हो तुम,
मुरझाकर मै हँसी हूँ सदा,
सतत तुम्हे देख कर,
आज तुम भी मुस्कुरा दो माँ,
मुझे खुद में देख कर ।

– प्रिया सोनी

Verse: Her

इक लौ जल रही थी,
इक आग बनके बहकी

इक चाह जो छुपी थी,
इक अर्ज़ बनके निकली

इक याद आज लौटी,
इक शब्द बनके चहकी

आसमां से लिपट कर,
इक रात जब वो रोई,
घनी निशा जो लगती थी वो,
अब होने लगी सुरमयी

इक आस अब है बाकी,
इक राह उसने ताकी,
तारों के संग वो गाती
दुनिया से है वो बागी ।

Priya Soni

Verse: मशहूर

यूँ ही नहीं मशहूर नज़रें इस अंजुमन में,
छुपा लें गर ये हाल-ए-वफ़ा,
तो हाल-ए-गिला भी इन्ही में समा है ।

शरारत झलकाती कभी ये ,
तो कभी आंसुओं को समेटे हुए है ।
कह दें राज़-ए-दिल कभी,
तो कभी छुप जाएं पलकों के साये में ये ।

यूँ ही नहीं मशहूर नज़रें इस अंजुमन में,
छुपा लें गर ये हाल-ए-वफ़ा,
तो हाल-ए-गिला भी इन्ही में समा है ।

– Priya Soni

कदम

हर जर्रे से निराश होकर ,
यूँ न मुड़ तू

इक तिनके भर आस संजो कर,
इक कदम आगे बढ़ा तू

मुश्किलात लाज़मी हैं यहाँ,
पर शिकायतें न कर तू
इच्छाशक्ति को प्रबल कर,
आंसुओं को समेट तू

इक तिनके भर आस संजो कर,
इक कदम आगे बढ़ा तू

– प्रिया सोनी