Her

She preferred woods,
For the walls pushed her back…

She preferred skies,
For the stars knew her well..

She preferred pen,
For the ink shaped her words…

She preferred winds,
For the slithering leaves caressed her heart…

She preferred scars,
For they born with her struggles…

A warrior hidden,
From the world of sly
Denied by everyone,
Embraced by sky…

– Priya Soni

Advertisements

Numb

Sound of rain drops,
Splashing on the floor…

Leaves sliding with each other,
And the flowers breathing between them…

Sparkling fire-flies in the garden,
Bees humming all along…

Beer shimmering in the glass,
Entangled with the ice cubes…

Thoughts in my mind,
Murmuring to each other…
Living in a parallel universe,
Or is the state of my numbness…

– Priya Soni

 

Words

Choking down with the words today,
Shall I say or quiet be I may…

Unable to voice it all out,
Or, afraid of being heard wrong…

Looking upon the sky for response,
Oh! my stars, where are you today…?

Oh! dear wind!
be my messenger…
talk to the stars,
and, carry my stories…

Let me exhale all my words,
You be my friend, in all the odds…

 

– Priya Soni

 

Image credits: Pinterest

 

 

Almost

Holding a pen,
I drew him,  almost…
Nebulous memories
led me numb,
Distinguishing him from the two shadows,
From the image which was once one…

Holding those thoughts,
I fell for him,  almost…

Talking to the torn pages,
They still hold his touch…
Looking at the sky,
I felt his stare,  almost…

Smiling all the way though,
I missed him,  almost…

– Priya Soni

Image source: nairaland.com

 

via Daily Prompt: Almost
Almost

अंतर्द्वंद

अंतर्द्वंद,
या उपापोह विचारों का
संयुक्त पर बिखरे से उन सवालों का,
जवाब जिनके खोजना चाहती हूँ,
अंतर्मन को टटोलना चाहती हूँ,
या किसी पुस्तक को ही खगोलना चाहती हूँ,
जहाँ विस्तृत वर्णन हो,
न केवल जवाबों का,
पर सवालों का भी

घर की इस खिड़की से देखती हूँ,
बाहर यही एक वृक्ष है
डाल से जुड़े कुछ पत्ते हैं,
जो चाहे जितना हवा के झोंके से लेहरालें,
पर वृक्ष से दूर जाने की उन्हें इज़ाज़त नहीं होती
यही से ही पल भर को,
देखते हैं गगन में उड़ते हुए,
उन पंछियों को,
कुछ ईर्ष्या से भरे मन को लिए,
अपनी इस विवशता से झुंझला से जाते हैं

कुछ ही देर में दिन ढलने को हुआ,
आसमान में एक लालिमा सी छा गयी,
वृक्ष भी जैसे उस वक़्त सुनहरा हो गया,
और पत्ते, की जैसे मोती चमक रहे हों

तभी पंछियों का जोड़ा भी अपने घोंसले में लौटा,
उदास मन से पत्तों ने पूछा,
“तुम्हे नहीं कोई विवशता,
लौट कर यहाँ आने की,
फिर क्यों नहीं उड़ जाते,
दूर कहीं फिर उसी गगन में”
पंछी इस बात को सुन मुस्काये,
जीवन में स्थिरता के महत् को समझाए,
“लुभावना है जो दूर से गगन,
नहीं है वहां घर सा वो सुकून,
यहीं इस वृक्ष से नाता है हमारा ,
तुम्हारे ही साथ बचपन पला है हमारा”
इस बात को सुन पत्ते भी मुस्काये,
एक मृग-तृष्णा से निकलकर, वो खिलखिलाये
और वृक्ष,
तो जैसे तृप्त हो आया,
अपने एक अभिन्न परिवार को था उसने पाया

ये अंतर्द्वंद,
या उपापोह विचारों का
संयुक्त पर बिखरे से उन सवालों का,
जवाब जिनके छुपे हैं,
इसी वृक्ष रुपी अंतर्मन में,
निकलकर स्वप्न रुपी मृग-तृष्णा से,
खोजती हूँ जवाब,
जीवन के आलिंगन में ||

_ Priya Soni

Image Source: google.com

The last wish…

Under the vast sky,
Eyes shimmering looking at the stars,
Lying on the green grass,
Breathing the scent of wet earth,

Resting my head on Mom’s lap,
Smiling at me,
Slowly she caressing my head,
And, singing me her favorite old melodies,
(She is a wonderful singer!)

Daddy sitting beside,
Talking about his old days of engineering,
(I love those old days college stories!)
Telling me how proud he is of me,
(I secretly hope it happens someday!)

Drinking together our favorite cup of tea,
Looking at that peaceful smile on their face,
Nothing more I want to see,
May be that’s how I want to die…

– Priya Soni

Image source: https://sheroes.in